बुधवार, 15 फ़रवरी 2012

वलेंतिने दिवस

शब्दों के हेर फेर और
ऊँची उड़ान से कुछ नहीं मिलता
गाली और कव्वाली के बिना.
आज कुछ कव्वाल मुरझाये
झुंझलाए पड़े थे ..
दिल्ली मेट्रो , कोलेजो और
माल के बाहर
अपने कव्वाली के इंतज़ार में
और कव्वाली
जो शायद ज्यादा ही दिख रही थी
लाल गुलाबो के झंझार में .
जो भी था
गाली और कव्वाली 
खुबसूरत थी...
तडपती कराहती
एक लपलपाहट में
अपने अस्तित्व को दिखाती ..
वलेंतिने दिवस पे...

शब्दों के हेर फेर और
ऊँची उड़ान से कुछ नहीं मिलता
गाली और कव्वाली के बिना.
आज कुछ कव्वाल मुरझाये
झुंझलाए पड़े थे ..
दिल्ली मेट्रो , कोलेजो और
माल के बाहर
अपने कव्वाली के इंतज़ार में
और कव्वाली
जो शायद ज्यादा ही दिख रही थी
लाल गुलाबो के झंझार में .
जो भी था
गाली और कव्वाली 
खुबसूरत थी...
तडपती कराहती
एक लपलपाहट में
अपने अस्तित्व को दिखाती ..
वलेंतिने दिवस पे...

नीर 

सोमवार, 23 जनवरी 2012

Aage aao..

दुर्गा का पूजक हो तुम  
 देवी के तुम  साधक ..
 माँ सरस्वती का वंदन करते 
 तूम आजीवन आराधक ..
माँ लक्ष्मी की सेवा का मन साथी 
.. तुम्ही बताओ 
हे मानुस 
तब क्यों 
मासूम बच्चियों  के तुम आघाती 
उन्हें बढाओ उन्हें सजाओ 
आगे आओ आगे आओ ...
उन्हें बचाओ ...


नीर (नृपेन्द्र कुमार तिवारी )